घर वापसी या डर वापसी / राजस्थान के 21 जिलों में शहरों से अधिक गांवों में संक्रमण, एक महीने के अंदर 400 प्रतिशत बढ़ा मरीजों का आंकड़ा

  • पिछले एक सप्ताह में पांच जिले ऐसे सामने आए, जिनमें पूरे 100 फीसदी रोगी ही गांवों में मिले हैं
  • सिर्फ 5 ही जिले ऐसे हैं...जहां शहरों की अपेक्षा गांव के कोरोना मरीजों का प्रतिशत 50 से कम है
जयपुर. कोरोना का कोहराम सिर्फ जयपुर, जोधपुर, कोटा, उदयपुर और अजमेर जैसे हॉटस्पॉट के शहरी इलाकों में ही नहीं है, बल्कि अब यह गांवों तक में घुस चुका है। वजह है- देशभर के कोरोना प्रभावित राज्यों से प्रवासियों का राजस्थान में अपने घरों में लौटना। भास्कर ने पड़ताल की तो चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए। पिछले एक महीने में ही गांवों में कोरोना संक्रमित 5 गुना तक बढ़ गए हैं। 13 अप्रैल तक प्रदेश में 177 कोरोना पीड़ित गांवों में मिले थे, अब 13 मई तक गांवों में यह संख्या 713 बढ़कर 890 हो गई है। यह महज 30 दिन में ही 402 फीसदी की बड़ी उछाल है। दरअसल, लॉकडाउन-3 में प्रवासी राजस्थानी लोगों द्वारा बिना जांच के पैदल या वाहनों में छिपकर गांवों में पहुंचने से खतरा बढ़ रहा है।
पिछले एक सप्ताह में पांच जिले तो ऐसे सामने आए, जिनमें पूरे 100 फीसदी रोगी ही गांवों में मिले हैं। चौंकाने वाला तथ्य यह भी है कि 33 में से 21 जिलों में शहरों की बजाय गांवों में कोरोना के रोगी ज्यादा हैं। लिहाजा 63% जिलों के गांवों में कुल रोगी 50% से 100% तक हैं।
भास्कर अपील- गांवों में संक्रमण रोकना हाे प्राथमिकता
राजस्थान में गांवों तक संक्रमण पहुंचना बड़े खतरे का संकेत है। अगर इस पर समय रहते काबू न किया गया तो यह भयावह स्थिति पैदा कर सकता है। गांवों में पिछले दिनों में जिस तेजी से मरीज बढ़े हैं, उसे देखते ही यह और भी चिंता की बात है। सरकारों को चाहिए कि गांवों में आने वाले हर प्रवासी के क्वारैंटाइन की बेहतर व्यवस्था हो, ताकि इसे रोका जा सके।
पाली से ज्यादा जालोर में हो गए प्रवासी कोरोना रोगी
प्रदेश में प्रवासी संक्रमित मरीज प्रतिदिन 50 की गति से बढ़ रहे हैं। बुधवार रात तक 174 प्रवासी रोगी मिले। गुरुवार को संख्या 51 बढ़कर 225 हो गई। जालोर में इतनी तेजी से संख्या बढ़ रही है कि पाली को पीछे छोड़ दिया। पाली में बुधवार तक 32 और जालौर में 12 प्रवासी संक्रमित मिले। लेकिन गुरुवार को जालौर में संक्रमित तीन गुना बढ़कर 38 हो गए।
वो जिले, जहां अब तक गांव से सबसे ज्यादा रोगी मिले
पिछले 10 दिन में ही कुछ जिले ऐसे पनपे हैं, सारे संक्रमित गांवों में मिले। बाड़मेर में अब तक मिले सारे 8 रोगी, नागौर में मिले 138 में से 137, चित्तौड़ में मिले 143 में 143, करौली में मिले सारे 7 रोगी, जालोर में मिले 5 दिन के सभी 40, सिरोही में पांच दिन में मिले सभी 11 रोगी ग्रामीण इलाकों में मिले। ऐसे में लापरवाही हुई तो हालात बिगड़ सकते हैं।