फ्लाईओवर अनियमित समय के लिए बंद:बीएमसी फ्लाईओवर पर 275 फीट लंबी और 8 इंच गहरी दरार,आवागमन बंद

 

2011 में शुरू हुआ था पुल, 20 करोड़ की लागत से अकाली-भाजपा सरकार ने बनवाया था, तकरीबन 1 लाख वाहन रोज गुजरते हैं


संविधान चौक यानी बीएमसी चौक पर बना फ्लाईओवर अनियमित समय के लिए बंद कर दिया गया है। कारण यह है कि एपीजे कॉलेज के सामने बने फ्लाईओवर पर 275 फीट लंबी और 8 इंच गहरी दरार आ गई है। पुल में दरार क्यों आई? कितना नुकसान हुआ? ये जानने के लिए नगर निगम के सीनियर सुपरिटेंडेंट इंजीनियर रजनीश डोगरा ने एक्सपर्ट बुलाने की बात कही है। जब तक एक्सपर्ट रिपोर्ट नहीं आ जाती, तब तक पुल बंद रहेगा। पुल पर बस स्टैंड की तरफ से कपूरथला जाने वाले और फिर श्री गुरु नानक मिशन चौक से बस स्टैंड की तरफ जाने वालों का रास्ता बंद रहेगा। केवल सत्गुरु नामदेव चौक की तरफ से बस स्टैंड को जाने वाली लेन ही खुली रखी गई है। अब सारा प्रमुख ट्रैफिक जमीनी रास्ते से ही चलेगा। ट्रैफिक पुलिस ने यहां पर वाहनों का प्रेशर घटाने के लिए हैवी व्हीकल को श्री गुरुनानक मिशन चौक से मसंद चौक की तरफ मोड़ने का फैसला किया है। इस पुल से रोजाना करीब एक लाख से ज्यादा वाहन गुजरते हैं।दरअसल, मंगलवार को सबसे पहले बीएमसी चौक से गुजरने वालों ने शाम 4 बजे के करीब लुक और बजरी का लेवल बैठा देखा था। इसके बाद शाम को पुल पर लंबी दरार बन गई। ट्रैफिक डायर्जन -हैवी व्हीकल गुरु नानक मिशन चौक से मसंद चौक की तरफ किए डायवर्ट, प्लाजा चौक रोड वन-वे की गई एसीपी ट्रैफिक हरविंदर भल्ला ने कहा कि जब तक निगम पुल को सुरक्षित नहीं बता देता है, तब तक बीएमसी चौक से ट्रैफिक चलेगा। हैवी ट्रैफिक श्री गुरु नानकमिशन चौक से मसंद चौक की तरफ मोड़ा जाएगा, जहां से लोग बस स्टैंड की पास जाकर शहर के बाहर जा सकेंगे। इस रोड को चुनाव इस लिए किया है क्योंकि यहां ट्रैफिक का प्रेशर कम होता है। प्लाजा चौक रोड भी वन-वे की गई है। गौर हो कि 2011 में गठबंधन ने 20 करोड़ की लागत से बना पुल लोगों को समर्पित किया था। बैरिंग का खिसकाव भी हो सकता है वजह-दरार से पहले करीब 5 मीटर लंबाई में लुक व बजरी बैठी है। फिर पुल पर जैसे-जैसे चढ़ाई आती है, वैसे-वैसे 275 फीट लंबी व 8 इंच गहरी दरार शुरू हो जाती है। ट्रैफिक पुलिस ने इसके साथ ही ट्रैफिक बंद कर दिया क्योंकि किसी को नहीं पता था कि आगे पुल के साथ क्या होने वाला है। निगम के जानकारों का मानना है कि अब सबसे पहले पुल पर सारी सड़क खोदी जाएगी। इसके बाद कंक्रीट स्लैब निकालकर जांच की जाएगी। दरार का एक कारण पुल के नीचे जो पिलर होता है, उस पर लगे बैरिंग में खराबी हो सकती है। जिस प्रकार कारों में सस्पेंशन सिस्टम लगा होता है, पिलर पर लगे बैरिंग यही भूमिका निभाते हैं। इस बैरिंग में खिसकाव भी गलत प्रेशर बनने से स्लैब को डैमेज कर सकता है। एक वजह केवल लुक और बजरी का खराब होना भी हो सकता है। फिलहाल अनियमित समय के लिए ट्रैफिक पुलिस ने पुल को बंद कर दिया है।