भारत-अमेरिका सेना के बीच शुरू हुआ संयुक्त युद्धाभ्यास:गाेलियाें की आवाज व टैंकों की गर्जना से गूंज उठी महाजन रेंज

 


धाेराें में गोलियों की आवाज और टैंकों की गरजना बीकानेर का महाजन फील्ड फायरिंग रेंज में गूंज उठा। मौका था भारत-अमेरिका सेना के बीच शुरू हुए संयुक्त युद्धाभ्यास का। दूसरे दिन मंगलवार को अमेरिका सेना व भारतीय सेना ने एक-दूसरे देशों के हथियारों काे चलाने की तकनीक काे सांझा किया। अमेरिका सेना की टुकड़ी ने नई हथियारों की खासियत बताते हुए भारतीय सेना काे समझाया कि काैन सा हथियार किस समय हमले के वक्त कारगर साबित हाेगा। अभी शुरुआती दो दिन दाेनाें देश आतंकवाद पर रणनीतिक चर्चा कर अभ्यास कर रहे हैं। उधर,भारत का सारथी टैंक अमेरिका सेना के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहा। यह टैंक वैसे ताे पुरानी जेनरेशन का है, लेकिन मैदान में दाैड़ने की रफ्तार इसकी आज भी लाजवाब है। टैंक में गाेला दागने की सुविधा के साथ एक लाइट मशीन गन भी लगी है ताकि दुश्मन नजदीक आए ताे उसे आसानी से टारगेट किया जा सके। यह टैंक जमीन के साथ पानी में भी चल सकता है, इसलिए चेरियट ऑफ विक्ट्री यानी विजय का रथ भी कहा जाता है। ये दुश्मन के राडार में नहीं आता है, वहीं अमेरिका के टैंक स्ट्राइकर में छाेटी-छाेटी चेयर लगी है, इसमें सात सैनिक आसानी से बैठ सकते है। ये यूएस आर्मी की स्ट्राइकर ब्रिगेड का हिस्सा है। इसे लगातार अपडेट किया जा रहा है। दोनों देश आतंकवाद से लड़ रहे हैं, ऐसे में इस समय हाे रहा ये युद्धाभ्यास महत्वपूर्ण हो गई है।