नौसैनिक सूरज हत्याकांड की जांच को बनी उच्चस्तरीय कमेटी, पलामू सांसद विष्णु दयाल रक्षामंत्री राजनाथ से मिले


 पलामू निवासी नौसैनिक सूरज कुमार दुबे को चेन्नई से अपहरण करने के बाद पालघर में जिंदा जलाए जाने के मामले की जांच के लिए रक्षा मंत्रालय ने उच्चस्तरीय कमेटी गठित की है। यह जानकारी पलामू सांसद विष्णु दयाल राम ने मंगलवार को दी। उन्होंने बताया कि नेवी जवान की अपहरण के बाद हत्या मामले में सीबीआई जांच की मांग को लेकर सोमवार को उन्होंने नई दिल्ली में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की है। रक्षा मंत्री ने अविलंब मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिलाया है। साथ ही मामले की जांच को लेकर उच्चस्तरीय कमेटी बनाने की बात कही। रक्षा मंत्री को सौंपे गए ज्ञापन में पलामू सांसद ने पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी है। इसमें बताया गया है कि सूरज 2 जनवरी को छुट्टी पर अपने घर आए थे। 30 जनवरी को वह पलामू से अपने कार्यस्थल कोयंबटूर जाने के लिए निकले थे। चेन्नई पहुंचने के बाद उन्होंने परिजनों को इसकी जानकारी दी थी।

 इसके बाद उनका मोबाइल स्विच ऑफ बताने लगा। बाद में एक फरवरी 2021 को सूरज दुबे के परिजनों ने पलामू के चैनपुर थाना में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। जांच से मोबाइल नंबर ट्रैक करने पर उनका लास्ट लोकेशन मेट्रो स्टेशन मीनमबक्कम चेन्नई दिखा। वहीं अन्य लोकल इंक्वायरी में पता चला कि श्रीधर नामक टैक्सी ड्राइवर ने सूरज दुबे को एनएसजी कैंप ओटेरी थाना के पास छोड़ा था। इसके तीन दिन बाद महाराष्ट्र के पालघर जिले अंतर्गत वेलजीपाड़ा जंगल में सूरज दुबे लगभग 90 प्रतिशत से ज्यादा जली अवस्था में पाए गए। बाद में मुंबई के नौसेना अस्पताल में इलाज के दौरान  उनकी मौत हो गई। सूरज ने मौत से पूर्व पुलिस को दिए बयान में बताया था कि 30 जनवरी को चेन्नई हवाई अड्डे के बाहर लगभग 11 बजे अज्ञात तीन सशस्त्र लोगों ने सफेद एसयूवी गाड़ी से उन्हें अगवा कर 10 लाख की फिरौती मांगी थी।

 सूरज ने पैसे देने में असमर्थता जताई। इसके बाद अपहर्ताओं ने तीन दिनों तक उन्हे बंदी बनाकर रखा। इसके बाद जली हुई अवस्था में वे महाराष्ट्र के पालघर स्थित जंगल से में मिले। अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है कि चेन्नई से 1500 किलोमीटर दूर वह महाराष्ट्र के पालघर कैसे पहुंच गए और महाराष्ट्र पुलिस ने उनकी खोज में कोई रुचि क्यों नहीं दिखाई। सांसद विष्णु दयाल के अनुसार सूरज दुबे की मौत महाराष्ट्र पुलिस की नाकामी को बयां कर कई  संदेह को पैदा करती है। सांसद ने बताया कि इस संबंध में उन्होंने गृह मंत्री भारत सरकार को भी पत्र लिखा है। इस पत्र में मामले की सीबीआइ या उच्चस्तरीय जांच कर इस दोषियों को कठोर से कठोर सजा दिलाने की मांग की है।

मृत नेवी जवान के घर पहुंची महाराष्ट्र पुलिस, परिजनों से जुटाई जानकारी मेदिनीनगर। पलामू जिले के चैनपुर थाना क्षेत्र के पूर्वडीहा पंचायत कोल्लहुआ खुर्द गांव निवासी नौसेना के जवान सूरज कुमार दुबे की हत्या के मामले में परिजनों से जानकारी लेने मंगलवार को महाराष्ट्र पुलिस की टीम पहुंची। पुलिस टीम ने करीब दो घंटे गांव में रहकर मृतक के बड़े भाई नीरज दुबे, मां कालिंदी देवी और बहन आरती तिवारी का फर्द बयान दर्ज किया। परिवार के लोगों ने महाराष्ट्र पुलिस को 30 जनवरी को सूरज के घर से निकलने से लेकर उसके गुम होने तक की पूरी जानकारी दी। महाराष्ट्र पुलिस ने सूरज के परिवार के लोगों से किसी आपसी या बाहरी दुश्मनी की बात जानने का प्रयास किया। इस पर सूरज के परिजनों ने पुलिस टीम को बताया कि परिवार की किसी से कोई दुश्मनी नहीं है। दोपहर बाद करीब डेढ़ बजे कोल्लहुआ खुर्द पुहंचे महाराष्ट्र पुलिस अधिकारी परिजनों से जानकारी लेकर तीन बजे वापस रवाना हो गए। उन्होंने जाते हुए जल्द ही फिर आने के बाद कही। चैनपुर थाना प्रभारी उदय कुमार गुप्ता ने बताया कि महाराष्ट्र पुलिस की तीन सदस्यीय टीम नेवी जवान के गांव आई है। स्थानीय पुलिस उन्हें अनुसंधान में पूरा सहयोग कर रही है। गांव में मृत जवान के परिजन सुरेंद्र दुबे, बिंदु दुबे आदि ने बताया कि पुलिस ने जो भी जानकारी मांगी, उसे बता दिया गया है। बता दें कि 30 जनवरी को पलामू से छुट्टी बिताकर चेन्नई पहुंचे नेवी जवान सूरज कुमार दुबे का एयरपोर्ट के पास से अपहरण कर लिया गया था। पांच फरवरी को सूरज गंभीर रूप से जली अवस्था में महाराष्ट्र के पालघर जिले के जंगल में मिला था। बाद में अस्पताल में उसकी मौत हो गई थी।