लॉकडाउन तोड़ रहा वायरस की चेन, बिहार में घट रहे कोरोना के मामले, अब ब्लैक फंगस नया टेंशन


बिहार में कोरोना की रफ्तार में कमी आई है। कहा जा रहा है कि ये लॉकडाउन का असर है। वैसे बिहार ही नहीं देश के दूसरे राज्यों में कोरोना का कदम धीरे हुआ है। अब ब्लैक फंगस लोगों को डराने लगा है।
पटना बिहार सहित पूरे देश में लॉकडाउन का असर दिख रहा है। कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आ रही है। रविवार को बिहार में कुल 6 हजार 894 नए कोरोना मरीज मिले। हालांकि इस दौरान 89 कोरोना पीड़ितों ने जान गंवा दी। अब ब्लैक फंगस वाले मरीज नया टेंशन बन रहे हैं।
बिहार में 6,894 नए कोरोना मरीज, 89 की मौत
 बिहार में लगातार कोरोना वायरस के मामलों में कमी आ रही है। राज्य में रविवार को 6,894 नए कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान हुई। हालांकि इस दरम्यान 89 कोरोना मरीजों की मौत हो गई। पटना में सबसे ज्यादा 1,103 नए कोरोना संक्रमित मिले। जबकि 24 जिलों में 100 से अधिक नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई। पिछले 24 घंटे में राज्य में 1 लाख 20 हजार 271 सैंपल की कोरोना जांच की गई। वहीं सक्रिय मरीजों के मामलों में भी कमी आ रही है।
देशभर में दिख रहा लॉकडाउन का असर बिहार ही नहीं देश में कोरोना वायरस पीड़ितों के मामलों में कमी आने लगी है। ऐसा माना जा रहा है कि लॉकडाउन का असर अब देखने को मिल रहा है। कोरोना का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा है। लॉकडाउन की वजह से उत्तर प्रदेश के कई शहरों में भी राहत दिख रही है। बीते 24 घंटे में लखनऊ में 617 लोग संक्रमित पाए गए हैं। जबकि, यूपी में आंकड़ा 12 हजार के करीब है। लखनऊ के अस्पतालों में अब बेड खाली होने लगे हैं। लेकिन ब्लैक फंगस का असर दिखाई देने लगा है।
पटना एम्स में ब्लैक फंगस मरीजों के लिए वार्ड बिहार में भी ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को देखते हुए पटना एम्स में 20 बेड का ब्लैक फंगस वार्ड खोला गया। जो सोमवार से शुरू हो जाएगा। यहां ब्लैक फंगस के 18 मरीज भर्ती हैं। पटना एम्स में ब्लैक फंगस का पहला मरीज 11 मई को आया था। अब तक 18 मरीज पहुंच चुके हैं। एम्स के कोरोना विभाग के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने मीडिया को बताया कि ब्लैक फंगस तेजी से बढ़ रहा है। इसको लेकर पटना एम्स में 20 बेड का एक वार्ड अलग से बनाया गया है। अब तक दो मरीजों की सर्जरी भी की गई है। तीन इलाज कराकर जा भी चुके हैं। इस तरह से रोजाना ब्लैक फंगस के मरीज आ रहे हैं। गंभीर मरीजों को यहां भर्ती किया जा रहा है।