कोरोना काल में मौत पर शिक्षा मंत्री विजय ने कहा- राज्य में 693 शिक्षकों की मौत हुई, उनके परिजनों को 4-4 लाख का भुगतान जल्द करेंगे

कोरोना काल में मौत पर शिक्षा मंत्री विजय ने कहा- राज्य में 693 शिक्षकों की मौत हुई, उनके परिजनों को 4-4 लाख का भुगतान जल्द करेंगे

 बिहार विधानमंडल के मानसून सत्र का आज 5वां और अंतिम दिन है। बिहार विधान परिषद में राज्य सूचना आयोग के वित्तीय वर्ष 2016-17 और 2017-18 के वार्षिक प्रतिवेदन की प्रति रखी गई। वहीं, पार्षद संजीव कुमार सिंह ने मांग की है कि सरकार को 3 नए विश्वविद्यालय स्थापित करनी चाहिए। साथ ही सरकार को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए राज्य में एक शिक्षण प्रशिक्षण विश्वविद्यालय की स्थापना भी की जानी चाहिए। वहीं, MLC केदारनाथ पांडेय के सवाल का जवाब देते हुए शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि कोरोना काल में बिहार में 693 शिक्षकों की मौत हुई है। इन सभी की जिलाधिकारी द्वारा जांच कराकर 4-4 लाख रुपए का भुगतान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री की उपस्थिति में उन्होंने कहा कि इससे बिहार में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ेगी, क्योंकि बिहार से बड़ी संख्या में युवा B.ed और M.ed करने बाहर के राज्य में जा रहे हैं। दीघा विधायक संजीव चौरसिया ने भी अयांश का मामला सदन में उठाया। सरकार से हस्तक्षेप कर इलाज कराने की अपील की। पटना का रहने वाला अयांश स्पाइनल मस्कुलर स्ट्रॉफी बीमारी से ग्रसित है।

अंतिम दिन विधानमंडल के दोनों सदनों में जातीय जनगणना का मुद्दा उठने की संभावना है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव कई दिनों से इस मुद्दे पर चर्चा कराने की मांग कर रहे हैं। आज इस मामले को लेकर वह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात भी करेंगे।

विधानमंडल के दोनों सदनों से LIVE अपडेट्स:

  • बिहार विधान परिषद में राज्य सूचना आयोग के वित्तीय वर्ष 2016-17 और 2017-18 के वार्षिक प्रतिवेदन की प्रति रखी गई।
  • बिहार विधान परिषद में पार्षद संजीव कुमार सिंह ने मांग की है कि सरकार 3 नए विश्वविद्यालय स्थापित करनी चाहिए। साथ ही सरकार को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए राज्य में एक शिक्षण प्रशिक्षण विश्वविद्यालय की स्थापना भी की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री की उपस्थिति में उन्होंने कहा कि इससे बिहार में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ेगी क्योंकि बिहार से बड़ी संख्या में युवा B.ed और M.ed करने के लिए बाहर के राज्य में जा रहे हैं।
  • दीघा विधायक संजीव चौरसिया ने भी अयांश का मामला सदन में उठाया। सरकार से हस्तक्षेप कर इलाज कराने की अपील की।
  • विधानसभा में नौ माह के बच्चे अयांश की बीमारी का मामला उठा। पटना का रहने वाला अयांश स्पाइनल मस्कुलर स्ट्रॉफी बीमारी से ग्रसित है। इसको लेकर सरकार और विधानसभा के सदस्यों द्वारा पीड़ित बच्चे की मदद की मांग उठी। अयांश को बचाने के लिए 16 करोड़ के इंजेक्शन की जरूरत है। इस मामले को कांग्रेस विधायक मुरारी गौतम की ओर से शून्यकाल में उठाया गया।
  • बिहार विधान परिषद में राज्य के शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि कोरोना काल में बिहार में 693 शिक्षकों की मौत हुई है। इन सभी की जिलाधिकारी द्वारा जांच कराकर 4-4 लाख रुपए का भुगतान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शिक्षकों की मौत के बाद उनकी अन्य राशि के लिए समीक्षा करा कर समय पर भुगतान करा दिया जाएगा। शिक्षा मंत्री, षार्षद केदारनाथ पांडे के सवाल का जवाब दे रहे थे।
  • बिहार विधान परिषद में संजीव कुमार सिंह ने शिक्षकों के हित में सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार वित्त रहित शिक्षा नीति की समाप्ति के आज 13 वर्ष बीत जाने के बाद भी कोरोना काल में शिक्षण संस्थानों के शिक्षक कर्मियों को उनके जीवनयापन के लिए सभी बकाया वेतनानुदान मुक्त करने का विचार रखती है? इसके जवाब में शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि जांच कराकर वेतन दिया जाएगा। पार्षद संजीव कुमार सिंह ने मांग की कि इसमें श्रम सिद्धांत का भी पालन किया जाए।
  • बिहार विधान परिषद में संजीव कुमार सिंह ने कहा कि सरकार वित्त रहित शिक्षा नीति की समाप्ति के आज 13 वर्ष बीत जाने के बाद भी कोरोना वायरस विषम परिस्थिति में वेतनानुदान शिक्षण संस्थानों के शिक्षक कर्मियों को उन्हें सुरक्षित जीवनयापन के लिए सभी बकाया शैक्षणिक सत्रों का वेतनानुदान मुक्त करने का विचार रखती है? इसके जवाब में शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि जांच कराकर वेतन दिया जाएगा। पार्षद संजीव कुमार सिंह ने मांग की कि इसमें श्रम सिद्धांत का पालन किया जाए।
  • भाजपा विधायक विद्यासागर केसरी ने विधानसभा में उठाया बांग्लादेशी घुसपैठियों का मुद्दा। अररिया के फारबिसगंज से विधायक हैं विद्यासागर केसरी। बोले- सीमांचल के जिलों में बड़ी समस्या बनते जा रहे हैं बांग्लादेशी घुसपैठिये। नहरों और सड़क के किनारे खाली जगह पर जमा रहे हैं अपना डेरा। स्थानीय प्रशासन की मिली भगत की जानकारी नहीं।
  • राजद विधायक सुधाकर सिंह ने कोरोना के दौरान बिहार से बाहर प्रदेश के लोगों की मौत का मुद्दा उठाया। बोले- सरकार क्या बताएगी, 5 हजार लोगों की मौत हुई है। राजद विधायक ने कोरोना से मरे लोगों के परिजनों को चार लाख का मुआवजा देने की मांग की। आपदा प्रबंधन विभाग ने जवाब देने से किया इनकार। बोला- स्वास्थ्य विभाग से जुड़ा सवाल है।
  • राजद विधायक रीतलाल यादव ने उठाया प्रीपेड मीटर के तेज चलने का मामला। जरूरत से ज्यादा आ रहा है स्मार्ट मीटर का बिल, पैसा जमा करते ही खत्म हो जाता है। समस्या का समाधान नहीं हुआ, तो पीड़ित लोग सामूहिक आत्मदाह करेंगे। ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा- अनावश्यक है शिकायत। केंद्र सरकार अब दे रही स्मार्ट मीटर लगाने का पैसा। बिहार सरकार की ओर से पहले से लगाया जा रहा है स्मार्ट मीटर। जर्मनी की कंपनी का बना मीटर बिहार में लगाया जा रहा।
  • बिहार विधान परिषद में पार्षद संजीव सिंह ने सवाल उठाया कि राज्य के नियोजित शिक्षक और पुस्तकालय अध्यक्ष 17 फरवरी 2020 से 25 मार्च 2020 तक हड़ताल पर गए थे। सरकार से समझौता के बाद शिक्षा विभाग द्वारा हड़ताल की अवधि का वेतन हड़ताल के संबंध के बाद दिया जाना है, जबकि आरा नगर निगम पटना जिला के कुछ विद्यालयों और राज्य के उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों का हड़ताल अवधि के समायोजन के बाद भी वेतन भुगतान नहीं किया गया है। क्या सरकार हड़ताल अवधि का वेतन शीघ्र भुगतान करेगी?
  • संजीव श्याम सिंह ने यह भी कहा कि शिक्षकों को पूरा वेतन नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के प्रशासक तानाशाह की तरह व्यवहार करते हैं और शिक्षकों को पूरा वेतन नहीं देते हैं। इसके जवाब में शिक्षा मंत्री विजय चौधरी ने कहा कि इसकी जांच कराकर सरकार कार्रवाई करेगी।
  • विधानसभा में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा ने मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना का उठाया मामला। विधायकों के वेतन में 15 प्रतिशत कटौती और विधायकों को अनुशंसा के लिए आवंटित राशि में कटौती के संबंध में पूछा सवाल। योजना विकास मंत्री विजेंद्र यादव का बयान - क्षेत्रीय विकास योजना की राशि स्वास्थ्य विभाग को दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग बता सकता है, राशि कहां खर्च हुई है।

संजय पासवान की मांग- गरीबों की गणना हो

बिहार में जातीय जनगणना कराने की मांग के बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वर्तमान पार्षद संजय पासवान ने नया प्रस्ताव सामने लाया है। संजय पासवान आज विधान परिषद में तख्ती लगा कर आए, जिस पर लिखा था - जातीय जनगणना नहीं, गरीबों की गणना कराए सरकार। उन्होंने साफ-साफ शब्दों में कहा कि जातीय जनगणना की जब जरूरत थी, तब हुई थी अब इसकी कोई जरूरत नहीं रह गई है। सभी ओबीसी जातियों को और साथ ही सवर्णों को भी आरक्षण मिल चुका है। इसलिए अब जातीय जनगणना की कोई जरूरत नहीं है। अब गरीबों की गणना होनी चाहिए।

अजीत शर्मा बोले- दिक्कत है तो CM हमारे साथ सरकार बनाएं

भागलपुर से विधायक व कांग्रेस के सदन में नेता अजीत शर्मा ने कहा है कि पेट्रोल-डीजल पर टैक्स अगर बिहार सरकार कम नहीं कर सकती, तो CM नीतीश हमारे साथ आ जाएं। हम मिलकर सरकार बनाएंगे और फिर जनता को राहत देंगे। जातीय जनगणना के मसले पर उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष आज CM से मिलेंगे। उनके नेतृत्व में हम सब PM मोदी से मिलने को तैयार हैं।

राजद का रोजगार, तो माले का कई मुद्दों पर प्रदर्शन

विधानसभा परिसर में विपक्ष के विधायकों द्वारा प्रदर्शन का सिलसिला भी जारी रहा। राजद विधायकों ने रोजगार के मसले पर प्रदर्शन किया। कई विधायक 'जॉब' और जातीय जनगणना से सम्बन्धित बैनर-पोस्टर लिए दिखे। वहीं, भाकपा-माले के विधायकों ने पटना में वार्ड सचिवों पर लाठीचार्ज, सीमांचल में बाढ़ जैसे मुद्दों को लेकर प्रदर्शन किया।

कोरोना काल के हेल्थ सिस्टम पर बहस हुई, मंगल पांडेय का जवाब सुन विपक्षी MLA वॉक-आउट कर गए

कल कोरोना काल में हेल्थ मैनेजमेंट पर हुई थी बहस

गुरुवार को विधानमंडल सत्र के चौथे दिन माले विधायकों ने कोरोना काल में स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर सरकार से जवाब मांगा था। इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने सरकार की ओर से जवाब दिया। हालांकि उनके जवाब से असंतुष्ट विपक्षी विधायक सदन से वॉक-आउट कर गए। इसके अलावा विधानसभा में बिहार विनियोग (संख्या तीन) विधेयक 2021 पारित किया गया। साथ ही CAG की रिपोर्ट भी सदन में रखी गई थी, जिसमें सरकार के कई विभागों में भारी वित्तीय अनियमितताओं का खुलासा हुआ था।