पारस बने मंत्री, CM नीतीश को मिल रही बधाई:LJP नेता ने पटना की सड़कों पर नीतीश कुमार को बधाई देने का लगाया पोस्टर, चर्चा तेज- JDU कोटे से पारस बने हैं मंत्री

 बिहार की राजनीति में इन दिनों सब कुछ उलझा-उलझा सा है। दिवंगत रामविलास पासवान के छोटे भाई और लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के बागी अध्यक्ष पशुपति पारस केन्द्र में मंत्री बन गए हैं, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि किस पार्टी के कोटे से मंत्री बनाए गए हैं। इस सवाल का जवाब अब भी पक्के तौर पर कोई नहीं दे पा रहा है। हर किसी के अपने-अपने दावे हैं।


वहीं, गुरुवार देर रात पटना की सड़कों पर लगे एक पोस्टर ने पूरे कयास में नया मोड़ ला दिया है। इस पोस्टर में पशुपति पारस को केन्द्र में मंत्री बनाए जाने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लोजपा (LJP) के नेता बधाई दे रहे हैं। इससे उन दावों को बल मिल रहा है, जिसमें कहा जा रहा था कि पारस को CM ने ही केंद्र में मंत्री बनवाया है।

केशव ने खुद को बताया LJP का नेता

पटना की सभी प्रमुख सड़कों पर केशव सिंह ने एक पोस्टर लगवाया है। इस पोस्टर में पशुपति पारस को केन्द्र में मंत्री बनाए जाने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बधाई दी गई है। केशव सिंह का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई देना तो समझ में आता है, क्योंकि पारस को मंत्री बनाए जाने का अंतिम फैसला प्रधानमंत्री का ही है, लेकिन नीतीश कुमार को बधाई क्यों?

पारस के मंत्री बनने में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की क्या भूमिका हो सकती है। सिंह ने हालांकि इस पोस्टर में अपने आपको LJP का नेता बताया है, लेकिन सच यह है कि केशव सिंह महीनों पहले अपने समर्थकों के साथ आरसीपी सिंह की मौजूदगी में JDU में शामिल हो चुके हैं।

ललन सिंह, चिराग और नीतीश की राजनीतिक लड़ाई का बने शिकार

बताया जा रहा है कि चिराग को हुए इस चौतरफा नुकसान के पीछे नीतीश कुमार का गुस्सा है। नीतीश, चिराग पासवान की वजह से विधानसभा चुनाव में हुए नुकसान को भूलने के लिए तैयार नहीं है।

चाहे इसके लिए उन्हें ललन सिंह जैसे अपने करीबी नेता को केन्द्रीय मंत्रिमंडल से बाहर ही क्यों ना रखना पड़े। इसी रणनीति के तहत पशुपति पारस को केन्द्र में मंत्री बनवाकर नीतीश कुमार ने भविष्य में भी चिराग के केन्द्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने की संभावनाएं खत्म कर दी है ।