रघु शर्मा बोले- रायशुमारी से फेरबदल नहीं, जो सुर्खियां देखकर राजी होना चाहते हैं उन्हें मुबारक हो, जो दिखता है वह होता नहीं

 रघु शर्मा बोले- रायशुमारी से फेरबदल नहीं, जो सुर्खियां देखकर राजी होना चाहते हैं उन्हें मुबारक हो, जो दिखता है वह होता नहीं 


खुद को हटाए जाने की चर्चाओं और अजय माकन की रायशुमारी में विधायकों के निशाने पर आए स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने तल्ख तेवर दिखाते हुए नाम लिए बिना सचिन पायलट खेमे पर निशाना साधा। रघु शर्मा ने दूसरे दिन की रायशुमारी से पहले मीडिया से बातचीत में कहा, रायशुमारी मंत्रिमंडल फेरबदल के लिए नहीं है, इसको लेकर जो सुर्खियां बन रही हैं उनमें सच्चाई नहीं है। जो अखबारों की सुर्खियां देखकर राजी होना चाहते हैं, यह उन्हें मुबारक हो। इसका मंत्रिमंडल फेरबदल से कोई लेना देना नहीं है। यह सब बातें नियोजित रूप से छपवाई जा रही हैं। मेरे खिलाफ कोई प्रोपेगेंडा टिकेगा नहीं।

रघु शर्मा ने कहा-यह कहा गया कि स्वास्थ्य मंत्री, शांति धारीवाल और गोविंद सिंह डोटासरा के बारे में विधायकों ने शिकायत की है, बेबुनियाद बात है। कोरोना में शानदार काम किया हैं शांति धारीवाल ने शानदार काम किया है। गोविंद सिंह डोटासरा हमारे अध्यक्ष हैं। मंत्रियों की शिकायतें क्यों करेंगे जब सब अच्छा काम कर रहे हैं। कोरोना में शानदार काम किया है, फिर भी मेरे खिलाफ विधायकों की शिकायतें करने की बेबुनियाद बातें कहीं जा रही हैं। राशुमारी में आम विधायकों की राय ली जा रही है, इसे लेकर दूसरी चर्चाएं गलत हैं।

मंत्रियों की परफाॅर्मेंस पर कोई सवाल नहीं पूछा जा रहा

रायशुमारी को लेकर जिस तरह की बातें फैलाई जा रही हैं उनमें दम नहीं हैं। मंत्रियों की परफॉर्मेंस पर कोई सवाल नहीं पूछा जा रहा है, इसीलिए मैंने कहा कि जो होता है वह दिखता नहीं और जो दिखता है वह होता नहीं। ऐसी रायशुमारी में मंत्रिमंडल विस्तार पर चर्चा नहीं हुआ करती है। पार्टी में कोई गुट नहीं है।

रघु शर्मा का इशारा पायलट गुट की तरफ
स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने रायशुमारी का मंत्रिमंडल फेरबदल या मंत्रियों को हटाने से जोड़कर देखने की चर्चाओं को नियोजित रूप से चलवाने का आरोप लगाकर सचिन पायलट खेमे की तरफ इशारा किया है। साथ ही सुर्खियां देखकर खुश होने की बात कहकर भी तंज कसा है। सचिन पायलट कैंप ही जल्द मंत्रिमंडल फेरबदल की मांग कर रहा है, पायलट गुट की मांगों को मानने के लिए कई मंत्रियों को बाहर करना पड़ेगा। बाहर होने वाले संभावित मंत्रियों में रघु शर्मा करा नाम भी है। रघु शर्मा पहले सचिन पायलट गुट में थे, बाद मेंं पाला बदलकर अशोक गहलोत की तरफ आ गए। रघु शर्मा अब पायलट गुट के निशाने पर हैं, नियोजित रूप से छपनाने का आरोप इसीलिए पायलट खेमे पर ही माना जा रहा है।